ये नेता चलिसा मेरे बड़े भईया पिंटू शर्मा जी ने लिखा है.

ॐ जय जय नेता देवा

ॐ जय जय नेता देवा ,,जो जन करते तुम्हारी सेवा ,,,क्लेश विकार उन्हें न होवे ,,सुख सम्पति चढ़ते सब मेवा ,,ॐ जय -जय नेता देवा ,भक्ति -भाव से करे जाप जो ,उनके कष्ट को हरते आप हो ,,जो जन उनको त्रास देत हैं ,,उनको आप श्राप देत हैं ,,,ऊँ जय जय नेता देवा ,मन क्रम बचन करे जो सेवा , चिरंजीव खावे नित मेवा ,,,, ॐ जय जय नेता देवा ,,आपकी महिमा जो नित गावै ,दस ग्रह ताहि निकट नहिं आवै ,,,,,,आप सोचते ग्रह दस क्या है ,,नेता से डरते ग्रह सब हैं ,,,,शुक्र शनि भी बने अर्दली ,गुरु से मच गयी नयी खलबली ,, सोम और ,रवि गति न पावै जब तक नेत महात्म्य न गावै ,,//ॐ जय -जय नेता देवा ,,,,, मंगल , बुध शुद्ध तब होई जब नेता की अस्तुति होई ,, राहू ,केतु का औकात ,,जऊ नेता से पावहि पार ,,,,,ॐ जय जय नेता देवा ,,जन जन करता आपकी सेवा ॐ जय जय नेता देवा ,,,,ऊँ जय -जय नेता देवा ,,,,,,,

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आज के दिन शहीद हुए थे आजादी के सात मतवाले

भारत छोड़ों आंदोलन के दौरान 11 अगस्त को शहीद हुए थे जगतपति कुमार समेत आजादी के सात मतवाले,

सेक्स और शादी...क्या-क्या नियम बना रखे हैं नक्सलियों ने