मधेपुरा के पंडित जी की लव स्टोरी

जानिए मधेपुरा के पंडित जी की लव स्टोरी , एक नहीं तीन शादियों की कहानी 

पटना। मधेपुरा में आज कल एक पुजारी की पंडितई की चर्चा नहीं उनकी लव स्टोरी की चर्चा हो रही है। पंडित जी इतने बड़े नटवरलाल हैं कि अबतक नाम बदल-बदल कर तीन शादियां कर चुके हैं। यह पोल तब खुला जब तीसरी पत्नी उनको खोजते हुए मधेपुरा के दुर्गा मंदिर में पहुंच गई और कहने लगी कि यह मेरे पति हैं। इस घटना के बाद पंडित घोलट झा फरार हैं। तीसरी पत्नी रीना ने बताया कि घोलट झा ने उसे पूर्णिया में चाय पीते-पीते शादी के लिए प्रपोज किया था। कहानी ऐसा है कि आज से चार साल पहले घोलट झा पूर्णिया में भट्ठा बाजार में एक चाय दुकान पर चाय पीने जा करता थे। रीना उसी के बगल के मकान में रहती थी। घोलट झा ने वहां अपना नाम बदला और कहा कि मेरा नाम एन के झा। धीरे-धीरे दोनों के बीच में संबंध बढ़ता चला गया और वह रीना के घर जाने लगा। पंडित ने रीना को कहा कि उसकी पहली पत्नी मर चुकी है। वह अकेला है और इतनी बड़ी जिंदगी काटना मुश्किल है, इसीलिए हम तुमसे शादी करना चाहते हैं। रीना उसकी बातों में फंस गई और शादी रचा ली। रीना को पंडित जी मधेपुरा ले आये और किराये के मकान में रखने लगे। कुछ सालों बाद पंडित ने गर्भवती होने पर रीना को मैके भेज दिया और मकान को खाली कर दिया। एक बच्ची को जन्म देने के बाद रीना मधेपुरा पहुंची और उस मकान में गई तो पता चला कि वह तो कब का पंडित जी छोड़ चुके हैं। इसके बाद रीना मंदिर पहुंची। वहां पंडित से बहस हुआ। पंचायत बैठी लेकिन पंडित जी उसके पहले ही फरार हो गए। अब रीना न्याय के लिए मधेपुरा के एसपी के पास पहुंच गई है। स्थानीय लोगों का कहना है पंडित जी ने अबतक कई बार नाम बदले हैं। उनका कभी नाम श्यामसुंदर झा तो कभी एनके झा। पंडित जी का नाम श्यामकिशोर झा भी है।वर्तमान समय में वे घोलट झा के नाम से जाने जा रहे थे। पंडित की पहली पत्नी अभी जिंदा है।

 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आज के दिन शहीद हुए थे आजादी के सात मतवाले

भारत छोड़ों आंदोलन के दौरान 11 अगस्त को शहीद हुए थे जगतपति कुमार समेत आजादी के सात मतवाले,

सेक्स और शादी...क्या-क्या नियम बना रखे हैं नक्सलियों ने