गर्ल्स हॉस्टल संचालकों की मनमानी पर लगे रोक

 गर्ल्स हॉस्टल संचालकों की मनमानी पर लगे रोक

बेगूसराय में एआईएसएफ का राज्यस्तरीय छात्रा कन्वेंशन 15-16 नवम्बर को

सम्मेलन के लिए पोस्टर जारी करते एआईएसएफ के प्रतिनिधि।

 

विद्या सागर
पटना (एसएनबी)।
राजधानी समेत राज्य के जिलों में संचालित निजी गर्ल्स हॉस्टलों में छात्राएं नारकीय जीवन जीने को मजबूर हैं। निजी गर्ल्स हॉस्टल संचालक मनमानी तरीके से किराया वसूलते हैं और घटिया भोजन देते हैं। राज्य सरकार सभी जिला मुख्यालयों एवं प्रखंडों में छात्राओं के लिए छात्रावास की व्यवस्था करे ताकि वे बेहतर जीवन जी सकें। यह बातें शुक्रवार को जनशक्ति भवन में एआईएसएफ के आयोजित संवाददाता सम्मेलन में संगठन की राष्ट्रीय परिषद की सदस्य निशा सिंह ने कहीं। उन्होंने राज्य की छात्राओं से इन मुद्दों को लेकर बेगूसराय में 15-16 नवम्बर को हो रहे एआईएसएफ के राज्यस्तरीय छात्रा कन्वेंशन भाग लेने की अपील की। उन्होंने कहा कि एआईएसएफ ने छात्राओं की समस्याओं पर केंद्रित होकर संघर्ष की रणनीति बनाई है। संवाददाता सम्मेलन में संगठन के प्रदेश अध्यक्ष परवेज आलम ने कहा कि कन्वेंशन के पहले दिन रैली निकाली जाएगी जिसमें राज्यभर से हजारों छात्राएं शामिल होंगी। कार्यक्रम का उद्घाटन संगठन की पूर्व राज्य अध्यक्ष व बिहार महिला समाज की अध्यक्ष प्रो. सुशीला सहाय करेंगी। बतौर मुख्य अतिथि संगठन के राष्ट्रीय महासचिव विश्वजीत कुमार मौजूद रहेंगे। राज्य सचिव सुशील कुमार ने कहा कि राज्य में छात्राओं का ड्रापआउट दर काफी अधिक है। स्कूलों में अलग शौचालय और कॉमन रूम नहीं होने के कारण छात्राएं बीच में पढ़ाई छोड़ देती हैं। उन्होंने छात्राओं के लिए सरकार से हर ब्लॉक में दो कॉलेज व अनुमंडल में डिग्री कॉलेज खोलने की मांग की। स्कूलों/कॉलेजों में नि:शुल्क नैपकिन्स बांटे जाएं तथा सरकूलर बस छात्राओं के लिए चलाए जाएं। कन्वेंशन यौन उत्पीड़न, घरेलू हिंसा, छात्राओं की शिक्षा, सुरक्षा एवं सम्मान को लेकर बुलाया गया है। इस अवसर पर छात्रा कन्वेंशन का पोस्टर रिलीज किया गया। शुक्रवार को हुई राज्य परिषद की बैठक में हाईस्कूली स्टूडेन्टस का कन्वेंशन 17-18 जनवरी 2015 को मोतिहारी में, टेक्निकल स्टूडेन्टस का गया में और लॉ स्टूडेंटस का पटना में कन्वेंशन करने का फैसला लिया गया। बैठक में केन्द्र सरकार द्वारा नौकरियों पर रोक और एसएससी परीक्षाफल में धांधली के खिलाफ तथा टेट/एसटेट उत्तीर्ण सभी अभ्यर्थियों को नियुक्ति को लेकर आंदोलन तेज करने का फैसला लिया गया। संगठन ने इंटर परीक्षाफल में अब भी स्क्रूटनी जारी रहने पर रोष व्यक्त किया तथा आंदोलन की चेतावनी दी। संवाददाता सम्मेलन में संगठन के राज्य उपाध्यक्ष निखिल कुमार झा, राज्य कोषाध्यक्ष हरेन्द्र कुमार पंडित और राज्य कार्यकारिणी सदस्य अकाश गौरव भी मौजूद थे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आज के दिन शहीद हुए थे आजादी के सात मतवाले

भारत छोड़ों आंदोलन के दौरान 11 अगस्त को शहीद हुए थे जगतपति कुमार समेत आजादी के सात मतवाले,

सेक्स और शादी...क्या-क्या नियम बना रखे हैं नक्सलियों ने