जेईई मेन का ऑनलाइन फॉर्म भरना हुआ महंगा

जेईई मेन का ऑनलाइन फॉर्म भरना हुआ महंगा

दोगुनी हुई फीस लाखों प्रतियोगी छात्रों पर बढ़ा बोझ

पिछले साल छात्राओं को नहीं देनी पड़ी थी फीस

18 दिसम्बर तक किए जा सकेंगे ऑनलाइन आवेदन


 

विद्या सागर
पटना।
आईआईटी, एनआईटी और ट्रिपल आईटी में नामांकन के लिए प्रस्तावित ज्वाइंट इंट्रेंस टेस्ट (जेईई) मेन 2015 का ऑनलाइन आवेदन फार्म भरना महंगा हो गया है। बीई या बीटेक (एक पेपर) का ऑफलाइन पेपर देने वाले सामान्य और ओबीसी संवर्ग के छात्र को इस बार 1000 रुपये फीस देनी होगी। लड़कियों की फीस 500 रुपये रखी गई है। एससी, एसटी और विकलांग छात्रों के आवेदन फॉर्म की फीस 500 रुपये है। पिछली बार लड़कियों से फीस नहीं ली गई थी। सामान्य, ओबीसी संवर्ग के लड़कों की फीस भी 500 रुपये थी। इस बार इसमें 50 फीसदी की बढ़ोतरी कर दी गई है। जेईई मेन के ऑनलाइन आवेदन फार्म 18 दिसम्बर तक भरे जा सकेंगे। सीबीएसई ने इसका पूरा ब्यौरा वेबसाइट 2015 पर उपलब्ध कराया है। यह पहला मौका है, जब क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड से फीस जमा करने की सुविधा दी गई है। क्रेडिट कार्ड से फीस जमा करने पर 1.20 फीसद सर्विस टैक्स कटेगा। बीई/बीटेक और बी.आर्क/बी.प्लानिंग (दोनों पेपर) का ऑफलाइन पेपर देने के लिए फार्म भरने वाले सामान्य, ओबीसी के छात्र की फीस 1800 रुपये और छात्राओं की 900 रुपये रखी गई है। एससी, एसटी और शारीरिक रूप से विकलांग छात्रों की फीस 900 रुपये है। पिछली बार सामान्य वर्ग की फीस 1400 रुपये थी। यानी 400 रुपये फीस बढ़ा दी गई है।
तीन बार ही दे सकेंगे परीक्षा
इंटरमीडिएट पास करने के साथ ही जेईई मेन का पेपर तीन बार दिया जा सकता है। इससे ज्यादा का मौका नहीं मिलता है। एक अक्टूबर, 1990 तक पैदा हुए सामान्य, ओबीसी के छात्र ही आवेदन कर सकते हैं। एससी, एसटी और फिजिकली डिसेबल्ड को उम्र सीमा में पांच साल की छूट दी गई है। एक अक्टूबर, 1985 तक पैदा हुए इस संवर्ग के छात्र आवेदन कर सकते हैं। बताते चलें कि जेईई मेन के लिए रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया चालू है। 2015 की परीक्षा में शामिल होने के लिए सिर्फ ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की सुविधा है। इस बार आवेदन के दौरान किसी भी प्रतिभागी को अपने नाम के आगे मिस्टर या अन्य किसी भी तरह के टाइटल का प्रयोग नहीं करना है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आज के दिन शहीद हुए थे आजादी के सात मतवाले

भारत छोड़ों आंदोलन के दौरान 11 अगस्त को शहीद हुए थे जगतपति कुमार समेत आजादी के सात मतवाले,

सेक्स और शादी...क्या-क्या नियम बना रखे हैं नक्सलियों ने