मोदी के कारपोरेट-राज के खिलाफ जनआंदोलनों द्वारा साझी लड़ाई की तैयारी

मोदी के कारपोरेट-राज के खिलाफ जनआंदोलनों द्वारा साझी लड़ाई की तैयारी

ओडिशा के जगतसिंहपुर के ढिंकिया से लैट कर विद्या सागर

 

देश में नरेन्द्र मोदी की सरकार बनते ही कारपोरेट-राज की स्थापना और तेज हो गयी। सत्ता में आते ही भाजपा और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बहुराष्ट्रीय कंपनियों के लिए देश का दरवाजा खोल दिया। इंसोरेशन सेक्टर, रक्षा, रेलवे में 100 प्रतिशत एफडीआई लागु कर प्रधानमंत्री ने मेक इन इंडिया का नारा दिया। विदेशी कंपनियों द्वारा पूर्व की कांग्रेस सरकार में जहां एमओयू पर दस्खत हो चुके उसे मोदी ने सत्ता में आते ही प्रोजेक्ट लगाने के लिए अपनी पुरी ताकत के साथ मद्द देने का उन कंपनियों को भरोसा दिया। पिछले दिनों मैं ओडिशा के जगतसिंहपुर जिले के ढिंकिया गाँव में गया था। इस इलाके में दक्षिण कोरिया की पाॅस्को कंपनी स्टील प्रोजेक्ट लगाने वाली है। इसके लिए 4004 एकड़ भूमि की जरूरत कंपनी को है। पाॅस्को प्रोजेक्ट से सात गांव ढ़किया, गोविंदपुर, नुआगांव, नुडियासाई, पोलांग, मुडिया पाडा, बायानड कंधा के 22 हजार ग्रामवासी प्रभावित हो रहे है। प्रोजेक्ट के लिए कुल मिलाकर 4004 एकड जमीन का अधिग्रहण किया जाना था। लगातार जनआंदोलन के बाद पाॅस्को के प्रबंधकों ने माना कि उन्हे केवल 2700 एकड की आवश्यकता है। जहां पोस्के का प्रोजेक्ट लगना है वहां के लोगों का मुख्य पेशा पान, धान और काजु की खेती है। इसी खेती से इनका जीविका चलता है। त्रासदी की बात यह है कि पान की खेती जिन किसानों का है जमीन उनकी नहीं है। समुद्र किनारे की ये जमीन सरकारी है जिसपर लोग पान की खेती करते हैं। गांव घुमने के दौरान मैंने देखा कि हर घर में एक दो काजु का पेड़ था। इससे भी इनकी जीविका चलती है। जिनलोगों के पास अपना जमीन हैं वहां धान की दो फसल वे उगाते हैं। पान की खेती से कम से कम एक परिवार को माह में दस हजार रूपये की आमदनी है। 100 फिट की जमीन में पान की खेती से यहां के किसान आरती दास बताती है कि पचास हजार माह में आमदनी होती है। यहां का पान मुंबई में अपनी के लोगों का ओठ लाल करती है। बताते चले कि जून 22, 2005 को सरकार नें पाॅस्कों के साथ समझौता किया था। 11 जुलाई 2005 को पाॅस्को विरोधी आंदोलन की नीव पडी, भुवनेश्वर में सभा हुई, गिरफ्तारियां भी हुई। अब तक 2005 से 2014 के बिच 1565 लोगो पर 230 से अधिक मुकदमे दर्ज किए जा चुके है। लेकिन चालान पेश होने के बावजूद कोई भी ममाले में ट्रायल न्यायालय में शुरू नही हुई है। केवल आंदोलन के मुखिया पाॅस्को प्रतिरोध संग्राम समिति के अध्यक्ष अभय साहु पर हत्या का फर्जी मुकदमा चलाया जा रहा है। अब तक अभय साहु पर 37 मुकदमें दर्ज हुए है। लगातार उनकी गिरफ्तारियंा भी होते रही है। एक बार 12 अक्टुबर 2009 से 21 अगस्त 2010 तक 37 प्रकरणों मे जेल में रखा गया। 25 नवबंर 2011 से मार्च 2012 तक 14 प्रकरणों में जेल मे रहे। 10 प्रकरणों में 12 मई 2013 से 30 नवंबर 2013 तक अभय साहु जेल मे रहे। पाॅस्को विरोधी आंदोलन की खासियत यह है कि इस आंदोलन को उड़ीसा कीे सत्तारूढ बीजूजनता दल के अलावा सभी पार्टियों का समर्थन प्राप्त है। यू तो अभय साहु कम्युनिस्ट पार्टी आफ इंडिया कि राष्ट्रीय परिसद के सदस्य है। उनका बेटा भी आॅल इंडिया स्टुडेन्ट फेडरेशन का राज्य का सचिव है। सी.पी.आई. के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव एवं वरिष्ठ नेता ए.बी. वर्धन सदा आंदोलन क्षेत्र में आते रहे है। कामरेड डी. राजा तथा एनी राजा भी लगातार पाॅस्को क्षेत्र का दौरा करती रही है। परन्तु आंदोलन को सभी दलो का सतत् समर्थन प्राप्त होता रहा है। केन्द्र में भाजपा की सरकार बनने के बाद यहां पाॅस्को विरोधी आंदोलन से भाजपा ने अपने आप को अलग कर लिया। आंदोलन के लोग बताते हैं कि केन्द्र में सत्ता में आने से पूर्व भाजपा की ओडि़सा इकाई आंदोलन का समर्थन करती रही है। अभी वर्तमान में ओडि़सा से केन्द्रीय मंत्री जुबेल ओराम मंत्री बनने के बाद भी आंदोलन का समर्थन किये। लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा दक्षिण कोरिया के प्रधानमंत्री से बातचित के बाद पीएम ने कहा कि ओडि़सा में प्रस्तावित स्थल पर पाॅस्को प्रोजेक्ट किसी भी किमत पर लगेगा। इसके बाद ओडि़सा भाजपा के नेताओं के सुर बदल गये। प्रोजेक्ट का भविष्य केवल भूमि अधिग्रहण पर निर्भर नही है, प्रोजेक्ट के लिए यदि खदाने नही मिल पाती तथा पारादीप पोर्ट के पास नया पोर्ट नहीं बन पाता तो प्रोजेक्ट कामयाब नही हो सकता है। वस्तुस्थिति यह है कि कई गांव के लोग मिलकर पारादीप के नजदिक पाॅस्को पोर्ट बनाने का भी विरोध कर रहे है। पाॅस्को आंदोलन की खासियत यह है कि यहां जिस जमीन का अधिग्रहण किया जा रहा है वह निजी जमीन नही है। वह शासकीय जमीन है जिसपर लंबे अरसे से ग्रामीण खेती करते आ रहे है। जो लोग आंदोलन को नही जानते उन्हे यह गलत फहमी है कि यह आंदोलन आदिवासीयों की जमीन से संबंधीत है। जबकि वास्तविकता यह है कि जहां ज्यादातर ग्रामीण पिछडी जातियों- खण्डाईत, चैसा, मछुआरा समाज, नुडिया जाति के है।
पाॅस्को का भविष्य इस बात पर जरूर निर्भर करेगा कि खण्डाधार में प्रोजेक्ट को खदाने मिल पाती है की नही। फिलहाल तो उम्मीद दिखती है कि खदान मिलना मुश्किल है लेकिन यदि मिल जाती है तब स्थिति अत्यंत गंभीर हो सकती है। पाॅस्को पोर्ट का निर्माण होना भी कठिन दिखलाई पडता है ऐसी स्थिति में आंदोलन के चलते मित्तल कंपनी को भागना पडा उसी तरह यदि कोरिया की कंपनी को भागना पड जाए तो कोई आश्चर्य नही होगा। पाॅस्को विरोधी आंदोलन को बल देने के लिए देशभर के 100 से ज्यादा संगठन विगत 29-30 नवंबर को ओडि़सा के जगतसिंहपुर जिले के ढि़किया के पटना गांव में जुटे। जल, जंगल, जमीन और जीविका के हक के लिए लोकतंत्र की रक्षा में जनआंदोलन का राष्ट्रीय सम्मलेन यहां हुआ। चार सौ से अधिक संघर्षशील लोगों ने विगत वर्षों के अनुभव, सरकारी दमन की स्थिति और खास तौर पर नई सरकार की कारपोरेट-हितैषी नीतियों के सन्दर्भ में भविष्य के रास्ते पर गहन विचार-विमर्श किया। पिछले दस सालों से चल रहे ऐतिहासिक पोस्को-विरोधी आंदोलन की कर्मभूमि ढिंकिया में हुए इस आयोजन का राजनैतिक महत्व यह है कि इस मौके पर सभी जमीनी आन्दोलनों ने राजनैतिक चेतना विकसित करने और परस्पर सामंजस्य पर बल दिया। इस अवसर पर एक साझा ढिंकिया संकल्प-पत्र का मसौदा पारित किया गया। जिसे और अधिक व्यापक स्तर चर्चा के लिए जारी किया गया है। पाॅस्को के लिए सुन्दरगढ़ जिले के खंडाधार पर्वत से लौह अयस्क खुदाई के लिए अनुमति देने के बाद उस क्षेत्र में खंडाधार सुरक्षा समिति के नेतृत्व में स्थानीय आदिवासियों ने आंदोलन का बिगुल बजा दिया है। सबसे ज्यादा विदेशी पूंजी निवेश आकर्षित करने का नारा देकर केंद्र व राज्य सरकारो के द्वारा पाॅस्को प्रोजेक्ट की स्थापना के खिलाफ जारी इस ऐतिहासिक संघर्ष को सम्मलेन ने पूर्ण समर्थन का ऐलान किया। ढिंकिया इलाके में जारी पोस्को प्लांट विरोधी संघर्ष एवं खंडाधार पर्वत क्षेत्र में शुरू खदान विरोधी आंदोलन की आवाज़ को भुवनेश्वर और दिल्ली के स्तर पर बुलंद करने का संकल्प सम्मलेन में लिया गया। पोस्को प्रोजेक्ट को क्रियान्वित करने के लिए जिस तरह पूर्व सरकार के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर कंपनी दबाव बनाती थी उसी तरह मौजूदा प्रधानमंत्री के कोरिया दौरे के दौरान पोस्को कंपनी द्वारा दबाव बनाया गया। भारत के प्रधानमंत्री के द्वारा यह ऐलान करना कि पोस्को प्रोजेक्ट के लिए सारे अवरोध खत्म किये जाएंगे। विगत दो दशकों से उदारीकरण के नाम पर देश के खनन क्षेत्रों में देशी-विदेशी कंपनियों को इजाजत देने के बाद देश भर के जनांदोलन इन गलत नीतियों के परिणाम स्वरूप प्राकृतिक संपदाओं की बेलगाम लूट का सवाल उठाते रहे हैं। इस बीच सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त शाह आयोग के द्वारा ओडिशा के अलावा दूसरे राज्यों में जारी खनन की व्यापक जांच के बाद इन्हें गैर-कानूनी पुष्ट किया तथा सी बी आई की जांच की सिफारिश भी की। इसी तरह सेन्ट्रल एमपावर्ड कमिटी (सी ई सी) ने भी गैर-कानूनी खदान का पुष्टिकरण करते हुए ठोस कारवाई करने का सुझाव दिया है. लेकिन चुनाव के समय भ्रष्टाचार के खिलाफ चिल्लाने वाली भाजपा की केंद्र सरकार शाह कमीशन की स्पष्ट सिफारिश के बावजूद सी बी आई जांच को लेकर चुप्पी साधे हुए है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आज के दिन शहीद हुए थे आजादी के सात मतवाले

भारत छोड़ों आंदोलन के दौरान 11 अगस्त को शहीद हुए थे जगतपति कुमार समेत आजादी के सात मतवाले,

सेक्स और शादी...क्या-क्या नियम बना रखे हैं नक्सलियों ने