सरकारी सहायता पाने के लिए सभी विश्वविद्यालयों को लेनी होगी नैक से मान्यता

सरकारी सहायता पाने के लिए सभी विश्वविद्यालयों को लेनी होगी नैक से मान्यता

नैक के अनिवार्यता से सूबे के सैंकड़ों काॅलेजों की रूक सकती हैं फंडिंग

शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने के लिए यूजीसी ने किया नियमों में बदलाव

सूबे में मात्र 34 काॅलेजों को ही मिला है नैक से मान्यता

विद्या सागर
पटना। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने काॅलेज व विश्वविद्यालयों के शिक्षा के स्तर में सुधार लाने के उद्देश्य से नेशनल असेसमेंट एंड एक्रीडेशन काउंसिल (नैक) की मान्यता को अनिवार्य कर दिया है। यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन (यूजीसी ) ने नियमों में बदलाव करते हुए सभी विश्वविद्यालयों व काॅलेजों के लिए नैक को अनिवार्य कर दिया है। यूजीसी ने साफ किया है कि नैक की मान्यता नहीं तो सहायता भी नहीं। नैक का मकसद विश्वविद्यालयों में शिक्षा की गुणवत्ता को बढ़ाना है। अभी तक केंद्रीय समेत प्रदेश सरकार से मान्यता प्राप्त अधिकतर विश्वविद्यालयों के पास नैक की मान्यता नहीं थी। इसके चलते विश्वविद्यालयों में नए सत्र शुरू होने से पहले नैक की टीम कैंपस में जांच नहीं कर पाती थी। जबकि विश्वविद्यालय सरकारी सहायता प्राप्त कर रहे थे, जिसके चलते शिक्षा की गुणवत्ता पर कोई काम नहीं हो पा रहा था। शिक्षकों समेत सुविधाओं की कमी के चलते विश्वविद्यालयों में शिक्षा का स्तर लगातार गिर रहा है। गुणवत्ता सुधारने के लिए यूजीसी नए सत्र से इसे अनिवार्य कर रहा है। 
बिहार के 34 काॅलेजों के पास ही हैं नैक की मान्यता
बिहार के 34 काॅलेज की नैक से मान्यता प्राप्त हैं। ऐसे में सैंकड़ों काॅलेजों की सरकार आर्थिक सहायता रूकने की संभावना है। सूबे में जिन 34 काॅलेजों को नैक से मान्यता मिली है उसमें 10 काॅलेज सिर्फ पटना जिले के हैं। शेष काॅलेज  राज्य के दूसरे जिले से आते हैं। पटना के जिन काॅलेजों को नैक से मान्यता मिली है उनमें एएन काॅलेज, बीएन काॅलेज, मगध महिला काॅलेज, पटना वीमेंस काॅलेज, बीडी काॅलेज, जेडी वीमेंस काॅलेज, जेएनएल काॅलेज खगौल, एसडीएम काॅलेज पुनपुन, संत जेवियर काॅलेज, टीपीएस काॅलेज शामिल है।
नैक से मान्यता के लिए ये हैं जरूरी 
नैक टीम जांच केदौरान छात्रों की संख्या, प्रोग्राम, शिक्षकों की संख्या, रिसर्च, पाठ्यक्रम, डिजाइन डेवलेपमेंट, फीड बैक, तकनीक, कंप्यूटर समेत अन्य लैब आदि देखती है। इनमें कमी पाए जाने पर संबंधित विश्वविद्यालय को नैक अपनी मान्यता नहीं देता।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आज के दिन शहीद हुए थे आजादी के सात मतवाले

भारत छोड़ों आंदोलन के दौरान 11 अगस्त को शहीद हुए थे जगतपति कुमार समेत आजादी के सात मतवाले,

सेक्स और शादी...क्या-क्या नियम बना रखे हैं नक्सलियों ने