फासीवाद के खिलाफ गोलबंद हो वाम-जनवादी शक्तियां-अमरजीत कौर

फासीवाद के खिलाफ गोलबंद हो वाम-जनवादी शक्तियां-अमरजीत कौर
सीपीआई ने किया फासीवाद पर विजय की 70 वीं सालगिरह पर कन्वेंशन



पटना। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की  बिहार राज्य परिषद के तत्वाधान में फासीवाद पर विजय की 70वीं सालगिरह आज यहां स्थानीय आई॰एम॰ए॰ हाॅल में मनाई गयी। इस अवसर पर आयोजित कन्वेंषन की अध्यक्ष्ता भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के राज्य सचिव सत्य नारायण सिंह ने की और संचालन किया राज्य सचिवमंडल सदस्य रामबाबू कुमार ने।
    समारोह के आरंभ में फासीवाद विरोधी युद्ध में शहीद लाखों लोगों के प्रति मौन श्रद्धांजलि अर्पित की गयी। उसके उपरांत आगंतुकों और भागीदारों का स्वागत अध्यक्ष की ओर से किया गया।
    कन्वेंषन का उद्घाटन भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के पूर्व राज्य सचिव बद्री नारायण लाल ने किया। उसके बाद माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के नेता विजय कांत ठाकुर, फारवर्ड ब्लाॅक के नेता नृपेन कृष्ण महतो और भाकपा (माले) नेता नन्दकिषोर प्रसाद ने अपने-अपने दलों की ओर से कन्वेंषन का अभिनंदन किया।
    इस अवसर पर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की राष्ट्रीय सचिव श्रीमति अमरजीत कौर ने मुख्य अतिथि के रूप में अपने संबोधन में वत्र्तमान भारतीय संदर्भ में फासीवाद के आसन्न खतरे का मुकाबला करने के लिए वामपंथी दलों व संगठनों को एकजुट करते हुए फासीवाद विरोधी तमाम शक्तियों को लामबंद कर व्यापक जनगोलबंदी की आवष्यक बताई।
    जिन अन्य वक्ताओं ने कन्वेंषन केा संबोधित किया उनमें प्रमुख थे- प्रगतिषील लेखक संघ के राष्ट्रीय अध्यक्षमंडल सदस्य डा॰ खगेन्द्र ठाकुर, जनषक्ति के संपादक राजेन्द्र राजन, प्रखर पत्रकार एवं महिला समाज सेवी निवेदिता, केदार दास श्रम शोध संस्थान के डा॰ एस॰के॰ गांगुली, इंडियन एसोसिएषन आॅफ लायर्स के योगेष वर्मा एवं प्रख्यात चिकित्सक डा॰ शकील आदि।
    कन्वेंषन ने सर्वसम्मति से एक डेक्लेयरेषन पारित किया जोा आने वाले दिनों में फासीवाद विरोधी व्यापक जनगोलबंदी का आधार बनेगा और जिसके बिना पर जिला, प्रखंड एवं ग्रामीण। कार्रवाई स्तरों पर गोष्ठियां आयोजित की जाएगीं और आम जनगण को फासीवाद के खतरे के प्रति जाग्रत किया जाएगा।
    अंत  में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य मो॰ जब्बार आलम ने धन्यवाद ज्ञापन किया और अध्यक्ष ने कन्वेंषन के संपन्न होने की घोषणा की।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आज के दिन शहीद हुए थे आजादी के सात मतवाले

भारत छोड़ों आंदोलन के दौरान 11 अगस्त को शहीद हुए थे जगतपति कुमार समेत आजादी के सात मतवाले,

सेक्स और शादी...क्या-क्या नियम बना रखे हैं नक्सलियों ने