जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष की रिहाई को ले मनाव श्रृंखला

जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष की रिहाई को ले मनाव श्रृंखला

छात्र के साथ शिक्षक, कर्मचारी एवं शहर के बुद्धिजीवियों ने घंटों बनायी मानव शंृखला

जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष सहित छात्र नेताओं पर राष्ट्रद्रोह के मुकदमे की वापसी एवं रिहाई को लेकर लगाए नारे

पटना। जवाहरलाल नेहरू विश्व विधालय छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार सहित वामपंथी छात्र नेताओं पर से राष्ट्रद्रोह के मुकदमे की वापसी, जेएनयू अध्यक्ष एवं प्रो. गिलानी की रिहाई, रोहित वेमुला को न्याय और जेएनयू-लोकतंत्र व देश बचाओं नारे में साथ आज छात्रों ने अशोक राजपथ पर मानव शृंखला बनाई। पीयू गेट से दरभंगा हाउस तक मानव शंृखला में छात्र, शिक्षक, कर्मचारी, संस्कृतिकर्मी, वकील एवं शहर के बुद्धिजीवी भी शामिल हुए। गौरतलब है कि एआईएसएफ के नेता व जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार, आईसा नेता व जेएनयू छात्रसंघ महासचिव रामानागा, पूर्व अध्यक्ष आशुतोष कुमार, पूर्व उपाध्यक्ष अनंत प्रकाश, श्वेता राज, डीएसएफ की नेता ऐश्वर्या, के अतिरिक्त अनिबर्न भट्टाचार्य एवं उमर खालिद के ऊपर देशद्रोह के मुकदमे एवं विश्वविद्यालय से निलंबित किए जाने के बाद रोष बढ़ता जा रहा है।
मानव शृंखला में पटना विवि की शिक्षिका प्रो. डेजी नारायण, कर्मचारी नेता मो. कैसर, रंगकर्मी अनीश अंकुर, सीपीआई नेता प्रमोद प्रभार, रामलाला सिंह, शौकत अली, भोला शर्मा, एडवोकेट रामजीवन प्रसाद, चंद्रशेखर आजाद, सूरजदेव सिंह सहित शहर के कई संभ्रांत नागरिक भी शामिल हुए।
मानव शृंखला के पश्चात् सभा को संबोधित करते हुए एआईएसएफ के राज्य सचिव सुशील कुमार, आइसा राज्य सचिव मोख्तार, छात्र राकांपा के प्रदेश अध्यक्ष तनवीर अहमद, एसएफआई के राज्य अध्यक्ष दीपक वर्मा, छात्र राजद के पीयू अध्यक्ष उमर फारुक, एनएसयूआई के प्रदेश महासचिव सभा की अध्यक्षता एआईएसएफ के महेश एवं आइसा के निखिल ने संयुक्त रूप से की। मौके पर एआईएसएफ के राज्य कार्यकारिणी सदस्य आकाश गौरव, तारिक अनवर, शादाब, रेयाज, अमित सरावगी, शहबाज, वर्षा, शिलू, मनीष यादव, आसिफ, रूपेश, प्राची, रिषू, महताब, सुशील उमाराज, आकाश कश्यप, अमित, रामजी, शब्बर, पुष्पेन्द्र, हिमांशु, राहुल, कौशलेश, प्रभात, जन्मेजय, संजय सहित सैकड़ों छात्र-छात्राएँ शामिल थे।

प्रभात कुमार, छात्र समागम के नीतीश पटेल, जन अधिकार छात्र परिषद् के प्रदेश महासचिव आजाद चांद, दिशा के भास्कर ने कहा कि आरएसएस एवं संघ परिवार के कुचक्र देश का वाम-जनवादी समुदाय कभी कामयाब नहीं होने देगा। जेएनयू अध्यक्ष कन्हैया कुमार सहित तमाम छात्रों पर से राष्ट्रद्रोह के मुकदमे की वापसी एवं कन्हैया की बिना शर्त रिहाई तक आंदोलन जारी रहेगा। जेएनयू को बदनाम करने पर संघ परिवार योजनाबद्ध तरीके से जुटा हुआ है। पूरे देश के छात्र समुदाय ने इसका मुखर विरोध कर खारिज किया है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आज के दिन शहीद हुए थे आजादी के सात मतवाले

भारत छोड़ों आंदोलन के दौरान 11 अगस्त को शहीद हुए थे जगतपति कुमार समेत आजादी के सात मतवाले,

सेक्स और शादी...क्या-क्या नियम बना रखे हैं नक्सलियों ने