व्यवस्था के खिलाफ लड़ने वाला देशद्रोही नहीं हो सकता,कन्हैया मामले की जांच संयुक्त संसदीय समिति से हो : पप्पू यादव

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस्तीफा दें
25 लाख सदस्य बनाने का लक्ष्य निर्धारित: श्रीभगवान

पटना। जन अधिकार पार्टी (लो) के संरक्षक और सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से इस्तीफे की मांग की है। आज पटना में पत्रकारों वार्ता में उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री राज्य में कानून व्यवस्था बनाए रखने में अक्षम साबित हो रहे हैं और प्रशासन पर उनका कोई नियंत्रण नहीं रह गया है। इसलिए उन्हें अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए।
श्री यादव ने कहा कि राज्य सरकार माफिया और अपराधियों के संरक्षण और समर्थन से चल रही है। अपराधियों को सत्ता का संरक्षण प्राप्त है। उन्होंने कहा कि बलात्कार के आरोपी विधायक राजवल्लभ यादव की गिरफ्तारी 3 मार्च तक नहीं हुई तो पार्टी का प्रतिनिधिमंडल राज्यपाल से मुलाकात कर मामले में हस्तक्षेप का आग्रह करेगा। 
  
सांसद श्री यादव ने कन्हैया के मामले में कहा कि व्यवस्था के खिलाफ लड़ने वाले देशद्रोही नहीं हो सकते हैं। हम इस मामले को लोकसभा में उठाएंगे। उन्होंने कहा कि कन्हैया की गिरफ्तारी और रोहित वेमूला की आत्महत्या के मामले की जांच संसद की संयुक्त समिति से करायी जानी चाहिए। बिहार में इंटर की हो रही परीक्षा के संदर्भ में सांसद ने कहा कि सरकार को शिक्षा व्यवस्था में सुधार करना चाहिए, शैक्षणिक माहौल में सुधार करना चाहिए। तभी कदाचारमुक्त परीक्षा संभव है।

इस मौके पर पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्री भगवान सिंह कुशवाहा ने कहा कि पार्टी जनाधार बढ़ाने के लिए सदस्यता अभियान चलाएगी। 30 दिसंबर, 16 तक 25 लाख सदस्य बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। उन्होंने कहा कि 15 मार्च तक सभी जिला अध्यक्षों का मनोनयन कर दिया जाएगा। श्री कुशवाहा ने कहा कि जिला अध्यक्ष 30 मार्च तक जिला कमेटी का गठन कर लेंगे और 30 अप्रैल तक जिला अध्‍यक्ष सभी प्रखंडों में अध्यक्ष मनोनीत कर देंगे। इस मौके पर प्रेमचंद सिंह, श्याम सुंदर यादव, राजेश रंजन पप्पू भी मौजूद थे। इससे पहले जन अधिकार पार्टी (लो) की विस्तारित प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक हुई। इसमें पार्टी के संरक्षक सांसद पप्पू यादव ने पार्टी के भविष्य की रूपरेख प्रस्तुत की। इस दौरान पार्टी के प्रदेश पदाधिकारियों ने भी अपने  विचार रखे।  

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आज के दिन शहीद हुए थे आजादी के सात मतवाले

भारत छोड़ों आंदोलन के दौरान 11 अगस्त को शहीद हुए थे जगतपति कुमार समेत आजादी के सात मतवाले,

सेक्स और शादी...क्या-क्या नियम बना रखे हैं नक्सलियों ने