शिक्षा की बदहाली को सरकारें जिम्मेवारः कन्हैया

पटना में एआईएसएफ के संवाददाता सम्मेलन में बोले जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया

कला महाविद्यालय के प्राचार्य को बर्खास्त करें सरकार

 पटना। जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने कहा कि शिक्षा की बदहाली के लिए केन्द्र व राज्य सरकारें दोषी हैं। सुधार के लिए सामाजिक आंदोलन होना चाहिए। बीपीएससी परीक्षा की तिथि आगे बढ़नी चाहिए। कन्हैया रविवार को पटना में एआईएसएफ द्वारा जनशक्ति भवन में आयोजित संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।
सरकार गंभीर नहीं
कन्हैया ने कहा कि आर्ट्स कॉलेज के मामले में राज्य सरकार को मौन नहीं रहना चाहिए। छात्रों की समस्या सुलझाने को सरकार गंभीर नहीं है। शिक्षा का माहौल बदलने के लिए संवादहीनता की स्थिति दूर कर कड़े कदम उठाने चाहिए।
टॉपर घोटाला को बताया शर्मनाक
राज्य सरकार के खिलाफ बोलने से बचते हुए कहा कि टॉपर घोटाला शर्मनाक है। सरकार ने इस मामले को ठीक से नहीं देखा है। आर्ट्स कॉलेज के प्राचार्य को बर्खास्त कर दोबारा परीक्षा होनी चाहिए व छात्रों से मुकदमा वापस होना चाहिए। आंदोलन के दौरान हिंसा, गोलीबारी की न्यायिक जांच हो।
कम हो रहा शिक्षा का बजट
छात्र संघ अध्यक्ष ने कहा कि शिक्षा में सुधार के लिए राज्य सरकार को जिम्मेवारी लेनी होगी। आर्ट्स कॉलेज में 65 दिनों से छात्र आंदोलन चल रहा है। देश में शिक्षा के नाम पर माफियागिरी चल रही है। प्रधानमंत्री, शिक्षा मंत्री आदि की डिग्रियों पर सवाल उठ रहे हैं। हर सरकार शिक्षा के बजट को कम कर रही है। मोदी सरकार ने शिक्षा बजट में 17 प्रतिशत की कमी की है। संवाददाता सम्मेलन में एआईएसएफ के राष्ट्रीय महासचिव विश्वजीत कुमार, प्रदेश अध्यक्ष परवेज आलम व राज्य परिषद के सदस्य अभिषेक आनंद उपस्थित थे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आज के दिन शहीद हुए थे आजादी के सात मतवाले

भारत छोड़ों आंदोलन के दौरान 11 अगस्त को शहीद हुए थे जगतपति कुमार समेत आजादी के सात मतवाले,

सेक्स और शादी...क्या-क्या नियम बना रखे हैं नक्सलियों ने