लाठीचार्ज के खिलाफ छात्रों का प्रदर्शन, दरभंगा में रोकी ट्रेन







प्रदर्शन करते एआईएसएफ के सदस्य

विद्या सागर
पटना.
गुरुवार को छात्रों के विधानसभा मार्च के दौरान पुलिस के लाठी चार्ज के विरोध में छात्र संगठनों ने शनिवार को पूरे राज्य में चक्का जाम की घोषणा की। राज्य भर में इस आंदोलन का व्यापक असर दिखा। शनिवार को सुबह से ही छात्र संगठनों के जाम के कारण कई शहरों में पब्लिक को फजीहत झेलनी पड़ी। छात्र लाठीचार्ज के दोषी पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे थे। वहीं छात्रों ने दरभंगा रेलवे स्टेशन पर नई दिल्ली सुपर फास्ट ट्रेन को भी रोक दिया था।
राजधानी में तीन मेगा ब्लॉक
छात्र संगठनों के इस बंद का मुख्य असर तीन मार्गों पर रहा। इसमें पटना विश्वविद्यालय मुख्य द्वार पर छात्रों ने सबसे अधिक देर तक रास्ता बंद रखा। यहां रास्ता साफ कराने को लेकर पुलिस और छात्रों के बीच झड़पें भी हुई। दूसरी ओर चक्का जाम की शुरुआत अनीसाबाद से हुई जहां देर तक छात्रों ने जाम लगाए रखा। इस संबंध में एआईएसएफ के राज्य सचिव सुशील कुमार ने बताया कि हमारी मांगों पर कार्रवाई तो दूर कोई सुन भी नहीं रहा है। शांति मार्च के दौरान पुलिस का रवैया नकारात्मक रहा और बेवजह लाठीचार्ज किया गया। सुशील ने बताया कि आंदोलन अभी बंद नहीं हुआ है। चक्का जाम के बाद आगे की रणनीति पर रविवार को चारों संगठनों की बैठक में लिया जाएगा।
राजभवन गया डेलीगेशन
छात्रों के प्रदर्शन का असर पब्लिक पर तो व्यापक हुआ लेकिन उनकी मांगों पर कार्रवाई की अभी संभावना कम ही दिख रही है। शनिवार को प्रदर्शन के बाद जिला प्रशासन की टीम छात्रों के एक प्रतिनिधिमंडल को राजभवन तक ले गई जहां छात्रों की मुलाकात राज्यपाल के अपर सचिव सलाउद्दीन खान से हुई। यहां से छात्रों को कार्रवाई के नाम पर आश्वासन ही मिल सका क्योंकि राज्यपाल अभी बिहार से बाहर हैं। छात्रों के डेलीगेशन में एआईएसएफ के सुशील कुमार, विकास, आइसा के सुधीर कुमार, नवनीत, छात्र राजद से राज सिन्हा, गौतम आनंद और एआईडीएसओ से सरोज कुमार सुमन शामिल थे।
10.00 बजे - चितकोहरा मोड़
चितकोहरा फ्लाईओवर सुबह ऑफिस आॅवर शुरू होते ही जाम हो गया। फ्लाईओवर से क्रॉस कर अनीसाबाद की ओर जाने वाली सड़क छात्रों ने ब्लॉक कर दी। इस ब्लॉक के कारण फ्लाईओवर पर एयरपोर्ट की ओर से आने वाली गाड़िया जाम में फंस गई। दो घंटे से अधिक वक्त तक चले इस जाम के दौरान राजभवन जाने वाली सड़क तक गाड़िया फंसी रही।
10.30 बजे - कॉलेज ऑफ कॉमर्स
कॉलेज ऑफ कॉमर्स के ठीक सामने में छात्रों के प्रदर्शन के कारण ओल्डबाइपास रोड पूरी तरह ब्लॉक हो गया। छात्रों ने किसी भी व्हीकल के आने जाने से रोक दिया। हालांकि एंबुलेंस सेवाएं व स्कूल की गाड़ियों को छात्रों ने रास्ता दिया। यहां जाम के कारण राजेंद्रनगर टर्मिनल तक यात्रियों को पहुंचने में भी परेशानी हुई। दूसरी ओर सर्विस लेन का इस्तेमाल करने के कारण कॉलोनी की सड़कें भी जाम हो गई।
11.00 बजे - अशोक राजपथ
पटना विश्वविद्यालय मुख्यालय छात्रों के प्रदर्शन का केंद्र था। यहां प्रदर्शन शुरू हुआ तो धीरे धीरे पूरा अशोक राजपथ ब्लॉक हो गया। महेंद्रू से कारगिल चौक तक जाने के सभी रास्तों को छात्रों ने बंद करा दिया था। इस दौरान जाम जब अधिक लगने लगा तो पुलिस ने सख्ती कर हटाने की कार्रवाई कर दी। इसके बाद देर तक पुलिस व छात्रों के बीच झड़प होती रही। हालांकि पुलिस का बल प्रयोग सिर्फ छात्रों को हटाने तक सीमित रहा।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आज के दिन शहीद हुए थे आजादी के सात मतवाले

भारत छोड़ों आंदोलन के दौरान 11 अगस्त को शहीद हुए थे जगतपति कुमार समेत आजादी के सात मतवाले,

सेक्स और शादी...क्या-क्या नियम बना रखे हैं नक्सलियों ने