भोजपुर गैंगरेप: CBI जांच की मांग पर ट्रेन व सड़क यातायात बाधित

भोजपुर गैंगरेप: CBI जांच की मांग पर ट्रेन व सड़क यातायात बाधित 

पटना. बहुचर्चित गैंगरेप कांड की सीबीआई जांच की मांग को लेकर मंगलवार को भोजपुर बंद असरदार रहा। पटना- मुगलसराय रेलखंड पर ट्रेनों का परिचालन घंटों बाधित रहा। जगह-जगह सड़क जाम करने से नेशनल हाइवे और स्टेट हाइवे समेत कई मार्गों पर आवागमन ठप रहा। बंद का आह्वान अखिल भारतीय राष्ट्रवादी किसान संगठन ने किया था। संगठन भोजपुर गैंग रेप कांड की निष्पक्ष जांच की मांग कर रहा है।
 आरा में बाजार बंद 
संगठन का कहना है कि बिहार सरकार आरोपियों पर राजनीतिक साजिश के तहत कार्रवाई कर रही है। बंद समर्थकों ने आरा स्टेशन पर जमकर बवाल मचाया। प्लेटफॉर्म पर ट्रेनों का परिचालन ठप कर दिया। ट्रेन के आगे खड़े व इंजन पर चढ़कर उसे आगे बढ़ने से रोक दिया। आरा में बाजार बंद रहे। गोपाली चौक पर दुकानें बंद कराने के सवाल पर किसानों व बंद समर्थकों के बीच झड़प हुई। दुकानदार धनतेरस को लेकर अगले दिन बंदी में शामिल होने की अपील कर रहे थे। जबकि, उग्र कार्यकर्ता बंद कराने पर अड़े थे। बाद में संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष इंदुभूषण सिंह व दुकानदारों के बीच वार्ता के बाद मामला सुलझ गया। व्यवसायियों ने अगली तिथि को बंदी में सहयोग करने का आश्वासन दिया।
 कई जगह बंद का मिलाजुला असर
पीरो अनुमंडल में बंद का व्यापक असर रहा। बंद समर्थकों ने पीरो स्टेशन पर आरा-सासाराम पैंसेजर ट्रेन को रोक दिया। पीरो प्रखंड के इब्राहिमपुर में सड़क जाम किया गया। तरारी के कुरमुरी, फतेहपुर बाजार, मनैनी, मोपती में किसान सड़क पर उतरे। चरपोखरी, गड़हनी प्रखंडों में मिलाजुला असर रहा। बड़हरा में बंद असरहीन साबित हुआ। जगदीशपुर, बिहिया, शाहपुर प्रखंडों में बंद का छिटपुट असर देखा गया जबकि सहार, संदेश, कोईलवर प्रखंडों में मिलाजुला असर रहा।
क्या है घटना
गैंगरेप की शिकार सभी पीड़ित महिलाएं कबाड़ बेचने का काम करती हैं। वे पड़ोस के गांव की हैं और कुरमुरी में कबाड़ बेचने गई थीं। पीड़ित महिलाओं का आरोप है कि दबंगों ने उन्हें पिस्तौल दिखाकर बंधक बना लिया। दुकानदार ने उन्हें सामान खरीदने के नाम पर अंधेरा होने तक उलझाए रखा। इसके बाद अपने साथियों को भी बुला लिया और पिस्तौल दिखाकर पहले जबरदस्ती शराब पिलाई फिर गैंगरेप किया। पुलिस ने इस मामले में तीन आरोपी नील निधी सिंह, जयप्रकाश और डब्बू पंडित को गिरफ्तार किया है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आज के दिन शहीद हुए थे आजादी के सात मतवाले

भारत छोड़ों आंदोलन के दौरान 11 अगस्त को शहीद हुए थे जगतपति कुमार समेत आजादी के सात मतवाले,

सेक्स और शादी...क्या-क्या नियम बना रखे हैं नक्सलियों ने