कन्हैया की बिना शर्त रिहाई को ले एआईवाईएफ का राज्यव्यापी चक्का जाम


कन्हैया की बिना शर्त रिहाई को ले एआईवाईएफ का राज्यव्यापी चक्का जाम

अशोक राजपथ को किया घंटो जाम, प्रदेश अध्यक्ष समेत 7 गिरफ्तार, रिहा
फासीवादी ताकतों से जारी रहेगी लड़ाईः एआईवाईएफ
पटना। जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार की बिना शर्त रिहाई को लेकर रविवार को अखिल भारतीय नौजवान संघ(एआईवाईएफ) के राज्यव्यापी आवह्ान पर पटना सहित विभिन्न जिलों में नौजवानों ने सड़क पर उतर कर  चक्का जाम व प्रदर्शन किया। आज यहां पटना काॅलेज के समीप अशोक राजपथ पर नौजवानों ने सड़क पर उतर कर नरेन्द्र मोदी के फांसीवादी सरकार के खिलाफ आक्रोश व्यक्त किया और लगभग एक घंटे तक यातायात को पूरी तरह ठप कर दिया। इस दौरान आंदोलनकारियों एवं पुलिस प्रशासन के बीच तीखी झड़प हुई। बाद मेें पीरबहोर के थानाध्यक्ष निशार अहमद ने आन्दोलन का नेतृत्व कर रहे एआईवाईएफ के प्रदेष अध्यक्ष प्रभात कुमार पाण्डेय, राज्य सचिव रौशन कुमार, छात्र समागम के नेता नीतिश पटेल युवा नेता मनोहर कुमार, राकेश कुमार, छात्रा नेता प्रशान्त पटेल, हिमांशु शेखर सहित सात युवा नेताओं को गिरफ्तार कर लिया। 
इस अवसर पर आन्दोलनकारियांे एवं जनसमूह को संबोेधित करते हुए एआईवाईएफ के पूर्व राष्ट्रीय सचिव प्रमोद प्रभाकर ने कहा कि जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया की गिरफ्तारी केन्द्र की मोदी सरकार की सुनियोजित षड़यंत्र के तहत हुई। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार संघवाद के रास्ते देश को आपातकाल की स्थिति में ले जाना चाहता है और लोकतंत्र का खात्मा कर देना चाहता है। प्रदेष अध्यक्ष प्रभात कुमार पाण्डेय व पूर्व प्रदेष अध्यक्ष इरफान अहमद ने कहा कि केन्द्र सरकार कन्हैया के खिलाफ देश द्रोह का साक्ष्य प्रस्तुत करे या इस प्रकरण पर देश से माफी मांगते हुए प्रधानमंत्री व गृहमंत्री तत्काल इस्तीफा दे। उन्होंने इस मांग को लेकर पूरे बिहार भर में चरणबद्ध आंदोलन चलाने का आवाह्न किया। 
वहीं प्रदर्शन व चक्का जाम में शौकत अली, रवि कुमार, मनोज कुमार, छात्र नेता निखिल कुमार झा, आकाश गौरव, पुष्पेन्द्र प्रणय, प्रभात कुमार, रवि रौशन, सुशील उमाराज, संदीप कुमार सहित दर्जनों छात्रा व युवा नेता शामिल थे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आज के दिन शहीद हुए थे आजादी के सात मतवाले

भारत छोड़ों आंदोलन के दौरान 11 अगस्त को शहीद हुए थे जगतपति कुमार समेत आजादी के सात मतवाले,

सेक्स और शादी...क्या-क्या नियम बना रखे हैं नक्सलियों ने